What is power cable its part manufacturing and use about full detail 2020

 पावर केबल क्या है:- 


                              पावर केबल का प्रयोग आमतौर पर ट्रांसमिशन के लिए किया जाता है 

https://www.apnamistri.in/2020/10/what-is-mechanical-engineering-scope-in.html

पावर केबल के प्रकार:-


 वोल्टेज पर आधारित पावर केबल -

1. लो वोल्टेज (L V) - 1 KV

2. हाई वोल्टेज(H V) - 11 KV

3. सुपर वोल्टेज ( S. V) 22K.V

4.  एक्स्ट्रा हाई वोल्टेज (EHV) - 66KV

5. एक्स्ट्रा सुपर वोल्टेज  66 KV se above


2. कोर या कंडक्टर पर आधारित पावर केबल :-

1.Single core 

2.3 - core 

3. 3.5 core


 नोट :-  3.54 का प्रयोग द्वितीय कविता के रूप में किया जाता है


3. कंस्ट्रक्शन के आधार पर :-

इसके अनुसार तीन तरह का केवल होता है:-

1. Belted cables :- इसका अधिकतम प्रयोग वोल्टेज 11kv तक होता है

2. स्क्रीन केबल :-  इसका अधिकतम वोल्टेज 66 KV  है.

3. Pressure cable :- इसका अधिकतम वोल्टेज 66 KV  है.


केवल के भाग :- 


1. कंडक्टर :-  इसके लिए एलुमिनियम का प्रयोग करते हैं

2. इंसुलेशन :-  इसके लिए पीसीसी प्रयोग किया जाता है

3. Sheat -  इसके लिए लेड का प्रयोग किया जाता है

4.  बेडिंग :-  कॉपर का होता है

5. आर बेरिंग - यह  केबल को प्रोटेक्शन प्रदान करता है यह स्टील काम बना होता है

6. Serving :-  सबसे बाहरी भाग होता है अधिकतम थर्मोसेटिंग का बनाया जाता है


1.  कंडक्टर :- यह को पर्याय जो नियम के प्रयोग की जा सकते हैं एलमुनियम का कॉस्ट कम होता है लचीलापन अधिक होता है इसलिए अधिकतर ऑल कंडक्टर का प्रयोग किया जाता है

https://www.apnamistri.in/2020/10/how-to-work-electric-substation-about.html

Eg -  यदि केवल में तीन अलग-अलग भूलती लेवल हो तो उसे 3 कोर केबल कहा जाता है


3.  इंसुलेटर :-  पावर केबल में हाई वोल्टेज लेवल की कनेक्टर एक दूसरे के पास है के होते हैं इसलिए यहां इंसुलेशन प्रोवाइड करना जो तिल होता है तो  इंसुलेटरप्रोवाइड किए जाते हैं इसमें निम्न पर उपस्थित होना आवश्यक है :- 


1. इंसुलेशन प्रतिरोध

2. High dialect strength

3. Non High groscopic 

4. उच्च गलनांक

इन नेताओं के अनुसार इंसुलेशन के लिए सिलेक्ट होने वाले मेन इंसुलेशन मैटेरियल्स :-

1. इंटीग्रेटेड पेपर

2.  रबड़

3.PVC

4. क्रॉसलिंक पॉलिथीन


3. Sheath :-  पावर केबल में  Sheath के दो महत्वपूर्ण कार्य है

1. यह कंडक्टर तथा इंसुलेटर को बाहर तापमान तथा नामी से सुरक्षा प्रदान करता है

2.  यह इंटरनल मैग्नेटिक फील्ड को मेंटेन करता है और कोई भी एक्सटर्नल मैग्नेटिक फील्ड कोई भी प्रक्रिया नहीं करता 

 इन विशेषताओं के आधार पर Sheath बनाने के लिए conducting material का प्रयोग किया जाता है यह कनेक्टिंग मेटेरियल एटमॉस्फेयर से इंसल्ट भी होनी चाहिए इसके अनुसार लीड का प्रयोग अधिक उपयोगी रहता है

 निम्न वोल्टेज लेवल की केबल में sheat  को प्राकृतिक कंडक्टर कितने भी प्रयोग किया जाता है ऐसे स्थान पर stainless-steel का बनाया जाता है


4. Bedding :- पावर केबल का यह भाग sheat और कनेक्टर को तकिया प्रदान करता है.

वेडिंग तुरंत मैकेनिकल प्रेशर को ग्रहण करते हैं  वेडिंग के अंदर की संरचना को सुरक्षा प्रदान करता है


4. Armouring :- 

                            अपने नाम के अनुसार केवल का यह है उसे ब्रेक डाउन होने से बचाने का कार्य करता है पावर केबल में ट्विस्टिंग और फोल्डिंग करने पर उनका ब्रेकडाउन हो सकता है इसलिए और बेरिंग द्वारा एक लिमिट के बाद रुका जाता है

 फार्म बैरिंग में मजबूत स्टील वायर द्वारा को लिंक करके आर-नैट बनाया जाता है


6. Serving :-  यह केवल कहां सबसे बाहरी भाग होता है इसके लिए निम्नलिखित विशेषताओं की आवश्यकता होती है :-

1. मेकेनिकल शक्ति

2. उच्च पीलापन होना चाहिए

3. मोस्चर  को ग्रहण न करने वाला

4. तापमान से कम प्रभावित होना चाहिए

इन्हीं विशेषताओं के कारण serving थर्मोसेटिंग प्लास्टिक से बनाया जाता है

 कौन सी टेबल कितना करंट बहन करेगी हुए हैं  निम्न बातों पर निर्धारित करेगा :- 

1.   कंडक्टर एलमुनियम का है या कॉपर इस बात पर निर्भर करता है यदि कॉपर का कंडक्टर है तो एलमुनियम से उसकी करंट कैपेसिटी 1 पॉइंट 6 टाइम ज्यादा होगी


2.  यदि इंसुलेटरइंसुलेटर XLPE का है तो PVC की  तुलना में ज्यादा करंट बहन कर सकता है

3.  सिंगल कोर कंडक्टर मल्टीकोर कनेक्टर की तुलना में ज्यादा करंट बहन कर सकते हैं

4. केबल की laying conditions  भी करंट सहन करने की क्षमता को प्रभावित करती है


 केबल में जोड़ कैसे लगाया जाता है :-

                                                      ईद की बल्कि बीच में अमूमन 4 तार होते हैं हरा तार अर्थ के उपयोग में आता है लाल तार आर के लिए है पीला तार वाइ के लिए है नीला तारा बल्लू फेस के लिए है

जब हमारी केबल कहीं छोटी पड़ जाती है तो हमें इसमें और तार जोड़ने की आवश्यकता होती है ठीक वैसे ही केवल हम लेंगे और हरी तार को हरे से मिलाएंगे आर फेस वाले को आर से 

https://www.apnamistri.in/2020/10/what-is-electrical-engineering.html

 तार में जोड़ लगाने का सामान्य तरीका होता था कि तार को तार से मिलाकर घुमा देते थे लेकिन जब केवल  पर जोर पड़ता था तो वह तार खुल जाती थी तार को जोड़ने का उपयोग तरीका है तारों को आधा-आधा करके एक दूसरे को cross twist   करें

What is a power cable: -

                               Power cable is usually used for transmission


 Power Cable Type: -


  Power cable based on voltage -

 1. Low Voltage (L V) - 1 KV

 2. High Voltage (H V) - 11 KV

 3. Super voltage (S. V) 22K.V

 4. Extra High Voltage (EHV) - 66KV

 5. Extra Super Voltage 66 KV se above


 2. Power cable based on core or conductor: -

 1.Single core

 2.3 - core

 3. 3.5 core


  Note: - 3.54 is used as the second verse.


 3. Based on construction: -

 According to this, there are only three types: -

 1. Belted cables: - Its maximum usage voltage is up to 11kv.

 2. Screen cable: - Its maximum voltage is 66 KV.

 3. Pressure cable: - Its maximum voltage is 66 KV.


 Parts of only: -


 1. Conductor: - Use aluminum for this

 2. Insulation: - PCC is used for this

 3. Sheat - Lead is used for this

 4. Bedding: - is of copper

 5. R bearing - It provides protection to the cable. It is made of steel work.

 6. Serving: - The outermost part is made of maximum thermosetting.

https://www.apnamistri.in/2020/10/electric-car-future-in-india-2020.html

 1. Conductor: - This can be used as a rule, the cost of aluminum is low, flexibility is high, so most all conductors are used.


 Eg - If there are only three different forgetting levels then it is called 3 core cable.


 3. Insulators: - The power cable consists of high voltage level connectors near each other, so providing insulation here which is mole then insulators are provided, it is necessary to present at the following: -


 1. Insulation Resistance

 2. High dialect strength

 3. Non High groscopic

 4. High melting point

 According to these leaders, the main insulation materials to be selected for insulation: -

 1. Integrated Paper

 2. Rubber

 3.PVC

 4. Crosslinked polythene


 3. Sheath: - Sheath has two important functions in power cable.

 1. It provides protection to conductors and insulators from outside temperature and fame.

 2. It maintains the internal magnetic field and does not process any external magnetic field.

  Based on these characteristics, a conducting material is used to make the sheath. It should also be inserted from the connecting material atomosphere, according to which the use of lead is more useful.

  In the low voltage level cable, sheat is made of stainless-steel at any place where natural conductor is used.


 4. Bedding: - This part of the power cable provides cushion to the sheat and connector.

 Weddings immediately assume mechanical pressure provides protection to the structure inside the wedding


 4. Armoring: -

                             As per his name, this is only to protect him from breaking down. Twisting and folding in the power cable can lead to their breakdown, hence stopping after a limit by Bering.

  The form barring is made by linking by strong steel wire in the form barring.


 6. Serving: - Where it is only the outermost part, it requires the following features: -

 1. Mechanical Strength

 2. Must have high yellowing

 3. Non-susceptible

 4. Should be less affected by temperature

 Due to these characteristics, serving thermosetting is made from plastic.

  Which table will be determined by the current sister?

 1. The conductor is of aluminum or copper depends on it. If copper is conductor then its current capacity will be 1 point 6 time more than aluminum.


 2. If the insulator insulator is of XLPE, it can do more current than PVC

 3. Single core conductor can do more current than multicore connector

 4. The laying conditions of the cable also affect the current bearing capacity


  How to connect cable: -

                                                       Eid is usually 4 strings in the middle. The green chord is used to mean the red chord is for R, the yellow chord is for Y, the blue star is for Ballu face

 When our cable gets short, we need to add more wires to it, just like that we will take it and mix the green wire with the green one with the R face

https://www.apnamistri.in/2020/10/electric-bike-in-india-price-use.html

  The usual way of joining the wire was to rotate the wire by joining the wire but only when it was stressed, it opened the wire. The use of connecting the wire is to cross twist each other in half. apnamistri.in

0 Comments