What is mechanical engineering, scope in government and private sector 2020

 मैकेनिकल इंजीनियरिंग क्या है

                           


                 मैकेनिकल इंजीनियरिंग में विद्यार्थी दो तरह से प्रवेश पा सकते हैं एक दसवीं के बाद और दूसरा बारहवीं कक्षा के बाद.

मैकेनिकल इंजीनियरिंग सिविल इंजीनियरिंग की एक ब्रांच है मंजू हमारी रोजमर्रा की जिंदगी का एक हिस्सा भी हैं  मेकेनिकल इंजीनियरिंग में ज्यादातर जनरेटर के माध्यम से इलेक्ट्रिसिटी का डिस्ट्रीब्यूशन ऑटोमोबाइल्स इलेक्ट्रिक मोटर ट्रांसफॉर्मर और अन्य हेवी व्हीकल के बारे में पढ़ाया जाता है.

https://www.blogger.com/blog/post/edit/4894223065174039315/2708430622339998085

मैकेनिकल इंजीनियरिंग से संबंधित कोर्सेज:-


1. डिप्लोमा इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग:-

                    दसवीं कक्षा के बाद 3 साल का डिप्लोमा इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग कोर्स करके विद्यार्थी मैकेनिकल इंजीनियरिंग  में अपना पहला कदम रख सकते हैं.


अंडर ग्रैजुएट कोर्स :-

                              मैकेनिकल में अंडर ग्रेजुएशन में 2 कोर्स आते हैं जिनमें से 

1.  बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग

2.  बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग इन मैकेनिकल


इन दोनों को विश के लिए 12वीं कक्षा में गणित रसायन विज्ञान भौतिक विज्ञान विषयों का होना अनिवार्य है इसे दोनों को 4वर्ष की अवधि के होते हैं

नोट :- यदि विद्यार्थी की दसवीं के बाद 3 साल का डिप्लोमा इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग करने के बाद अंडर ग्रेजुएशन में प्रवेश करता है तो उसे सीधा द्वितीय वर्ष में एडमिशन मिलता है.


 पोस्ट ग्रेजुएशन:

                         

1.  मास्टर आफ टेक्नोलॉजी इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग

2.  मास्टर आफ इंजीनियरिंग इन मैकेनिकल


 यह कोर्स अंडर ग्रेजुएशन के बाद किए जाते हैं तथा यह दोनों कोर्स  2 वर्ष की अवधि के होते हैं


डाक्टरल कोर्स 

मैकेनिकल फील्ड में किसी एक विषय में आपको स्पेशलाइजेशन करना पड़ता है यह कोर्स कम से कम 3 वर्ष तथा अधिक से अधिक 5 वर्ष का होता है


वह  विषय जो मैकेनिकल इंजीनियरिंग में पढ़ने आवश्यक होते हैं :

https://www.blogger.com/blog/post/edit/4894223065174039315/8688291566842454320

1. कंप्यूटेशनल फ्लुएड डायनॉमिक्स एंड हीट ट्रांसफर

2. कंप्यूटर ऐडेड डिजाइन ऑफ थर्मल सिस्टम

3. फंडामेंटल ऑफ कास्टिंग एंड सॉलिडिफिकेशन

4. इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग एंड ऑपरेशन रिसर्च

5. मॉडलिंग आफ टर्बूलेंट कॉम्बस्शन

6. प्रिंसिपल आफ वाइब्रेशन कंट्रोल

7. रेलरोड व्हीकल डायनॉमिक्स

8.  ट्रांजिशन एंड तनु लेंस

9. वेब प्रोपेगेशन इन सॉलिड्स


भारत में  मैकेनिकल इंजीनियरिंग के स्कोप :-


भारत में गवर्नमेंट सेक्टर और प्राइवेट सेक्टर दोनों में ही मैकेनिकल इंजीनियरिंग के स्कोप  हैं.


 पहले आता है गवर्नमेंट सेक्टर

1. भारत हेवी इलेक्ट्रिकल लिमिटेड

2. नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन

3.  इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन

4. डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन

5. कोल इंडिया

6. इलेक्ट्रॉनिक्स कॉरपोरेशन आफ इडिया

7.  हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड

8.  स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया


 प्राइवेट क्षेत्र के लिए


1.  टाटा मोटर्स

2. बजाज मोटर्स

3.  हीरो मोटोकॉर्प

4.  लीलैंड मोटर्स

5.  फोर्ड मोटर कंपनी

6.  होंडा मोटर कंपनी


 ये कंपनी समय-समय पर अपनी वैकेंसी निकलती हैं


अमेरिका में मैकेनिकल इंजीनियरिंग स्कोप: 

https://www.blogger.com/blog/post/edit/4894223065174039315/6968019319961169913

यदि मैकेनिकल इंजीनियरिंग के क्षेत्र में स्कोप की बात की जाए तो अमेरिका में सरकार के नियमों के अनुसार प्रत्येक कंपनी में एक ही सैलरी होती है जबकि भारत में प्रत्येक को अलग-अलग सैलरी जीती जाती है अमेरिका में प्रत्येक कर्मचारी को लगभग  $5 प्रति घंटा की सैलरी दी जाती है. अमेरिका पूंजीवादी अर्थव्यवस्था वाला देश है जहां अमेरिकन कंपनियां काम करती हैं इसके साथ-साथ विदेशी कंपनियां भी काम करती हैं इनमें  भी मेकेनिकल  इंजीनियरिंग के अच्छे स्कोप होते हैं.

What is mechanical engineering

                                              Students can get admission in mechanical engineering in two ways, one after tenth and the other after twelfth grade.

 Mechanical engineering is a branch of civil engineering. Manju is also a part of our everyday life. Mechanical engineering mostly teaches about distribution of electricity through generators, automobiles, electric motor transformers and other heavy vehicles.


 Courses related to Mechanical Engineering: -


 1. Diploma in Mechanical Engineering: -

                     After the tenth standard, students can take their first step in mechanical engineering by taking a 3-year diploma in mechanical engineering course.


 Undergraduate course: -

                               Undergraduate in Mechanical comes 2 courses out of which

 1. Bachelor of Technology in Mechanical Engineering

 2. Bachelor of Engineering in Mechanical

https://www.apnamistri.in/2020/10/electric-bike-in-india-price-use.html

 It is mandatory for both of them to have Mathematics Chemistry Physics subjects in class 12th, both of them are of 4 years duration.

 Note: - If the student enters the undergraduate degree after completing their tenth year diploma in mechanical engineering after tenth, then they get admission directly in the second year.


  post graduation:-

                         

 1. Master of Technology in Mechanical Engineering

 2. Master of Engineering in Mechanical


  These courses are done after graduation and both these courses are of 2 years duration.


 Doctoral course

 You have to specialize in any one subject in the mechanical field. This course is at least 3 years and maximum 5 years.


 Topics that are required to study in Mechanical Engineering:


 1. Computational Fluid Dynamics and Heat Transfer

 2. Computer Aided Design of Thermal System

 3. Fundamental of Casting and Solidification

 4. Industrial Engineering and Operation Research

 5. Modeling of turbulent combustion

 6. Principal of Vibration Control

 7. Railroad Vehicle Dynamics

 8. Transition and attenuated lens

 9. Web Propagation in Solids


 Scope of Mechanical Engineering in India: -


 There are scopes of mechanical engineering in both the government sector and private sector in India.


  Government sector comes first

 1. Bharat Heavy Electrical Limited

 2. National Thermal Power Corporation

 3. Indian Space Research Organization

 4. Defense Research and Development Organization

 5. Coal India

 6. Electronics Corporation of India

 7. Hindustan Aeronautics Limited

 8. Steel Authority of India


  For private sector


 1. Tata Motors

 2. Bajaj Motors

 3. Hero Motocorp

 4. Leland Motors

 5. Ford Motor Company

 6. Honda Motor Company


  These companies leave their vacancy periodically


 Mechanical Engineering Scope in America:

https://www.apnamistri.in/2020/10/how-to-change-weather-and-other.html

 If we talk about scope in the field of mechanical engineering, then according to government regulations in the US, each company has the same salary, while in India, each one gets a different salary. In the US, each employee gets a salary of around $ 5 per hour.  Is given.  America is a country with a capitalist economy, where American companies work, as well as foreign companies, they also have good mechanical engineering scopes. apnamistri.in


0 Comments